Author Overview

जन्म : जावरा (म.प्र.)। शिक्षा : एम.ए., पी-एच.डी., डी. लिट्.। आलोचना, निबंध, नाटक विचार की पचास से अधिक पुस्तकें प्रकाशित। प्रमुख कृतियाँ : कविता की तीसरी आंख, कालयात्री है कविता, रचना एक यातना है, अतीत के हंस : मैथिलीशरण गुप्त, जयशंकर प्रसाद की प्रासंगिकता, मेघदूत : एक अंतर्यात्रा, शमशेर बहादुर ङ्क्षसह, नरेश मेहता, कवि परंपरा : तुलसी से त्रिलोचन (आलोचना); सौंदर्य का तात्पर्य, समय का विवेक, समय समाज साहित्य, सर्जना का अग्निपथ, प्रजा का अमूर्तन, ङ्क्षहदी : कल आज और कल (निबंध); समय में विचार (आलेख); इला, सांच कहूँ तो, फिर से जहांपनाह (नाटक); अनुष्टुप, ङ्क्षहदी कविता की प्रगतिशील भूमिका, प्रेमचंद : आज (संपादित)। मूल्यांकन-पुस्तकें : प्रभाकर श्रोत्रिय : आलोचना की तीसरी परंपरा—संपादक : डॉ. उर्मिला शिरीष, इला और प्रभाकर श्रोत्रिय के नाटक—संपादक : विभु कुमार, रूपाली चौधरी। कृतियों के भारतीय भाषाओं और अंग्रेज़ी में अनुवाद। मुख्य पुरस्कार : आचार्य रामचंद्र शुक्ल पुरस्कार, आचार्य नंददुलारे वाजपेयी पुरस्कार, रामवृक्ष बेनीपुरी पुरस्कार, श्री शारदा सम्मान, साहित्य भूषण, दीनदयाल उपाध्याय सम्मान (उत्तरप्रदेश ङ्क्षहदी संस्थान), शताब्दी सम्मान (भ. भा. हिन्दी साहित्य समिति, इन्दौर) आदि। के.के. बिरला फांउडेशन की फैलोशिप। पूर्व में : निदेशक, भारतीय ज्ञानपीठ, नई दिल्ली; निदेशक, भारतीय भाषा परिषद, कोलकाता; हिंदी प्राध्यापक। सम्पादक : साक्षात्कार, अक्षरा, वागर्थ, नया ज्ञानोदय, पूर्वग्रह, समकालीन भारतीय साहित्य। सम्प्रति : न्यासी, भारत भवन, भोपाल; सलाहकार, नेशनल बुक ट्रस्ट...

Other Books By Prabhakar Shrotriya