Band Gali Ka Aakhiri Makan

view cart
Availability : Stock
  • 0 customer review

Band Gali Ka Aakhiri Makan

Number of Pages : 116
Published In : 2015
Available In : Hardbound
ISBN : 978-81-263-4019-4
Author: Dharamvir Bharti

Overview

यह भी बहुत दिलचस्प ढंग है। वर्षों तक साहित्य में कहानी, नयी कहानी, साठोत्तरी कहानी, अकहानी आदि आदि को लेकर बहस चलती रहे। लिखनेवाला चुप रहे। वर्षों तक चुप रहे और फिर चुपके से एक कहानी लिखकर प्रकाशित करा दे, और वही उसका घोषणा-पत्र हो, गोया उसने सारे वाद-विवाद के बीच एक रचनात्मक कीर्तिमान स्थापित कर दिया हो, कि देखो यह है कहानी!’’ ‘बन्द गली का आखिरी मकान’ प्रकाशित होने पर जो तमाम पत्र लेखक को मिले उनमें से एक पत्र का यह अंश भारती की कथा-यात्रा की दिलचस्प झलक पेश करता है। भारती ने वर्षों के अंतराल पर इस संकलन की कहानियाँ लिखीं लेकिन हर कहानी अपनी जगह पर मुकम्मिल एक ‘क्लासिक’ बनती गयी। ये कहानियाँ आप केवल पढक़र पूरी नहीं करते, ये कहानियाँ कहीं बहुत गहरे पैठकर आपकी जीवन-दृष्टि को पूरी और गहरी बना जाती हैं. इनमें कुछ ऐसा है जो आप पढक़र ही जान पाएँगे। प्रस्तुत है इस कृति का नवीन संस्करण।

Price     Rs 140

यह भी बहुत दिलचस्प ढंग है। वर्षों तक साहित्य में कहानी, नयी कहानी, साठोत्तरी कहानी, अकहानी आदि आदि को लेकर बहस चलती रहे। लिखनेवाला चुप रहे। वर्षों तक चुप रहे और फिर चुपके से एक कहानी लिखकर प्रकाशित करा दे, और वही उसका घोषणा-पत्र हो, गोया उसने सारे वाद-विवाद के बीच एक रचनात्मक कीर्तिमान स्थापित कर दिया हो, कि देखो यह है कहानी!’’ ‘बन्द गली का आखिरी मकान’ प्रकाशित होने पर जो तमाम पत्र लेखक को मिले उनमें से एक पत्र का यह अंश भारती की कथा-यात्रा की दिलचस्प झलक पेश करता है। भारती ने वर्षों के अंतराल पर इस संकलन की कहानियाँ लिखीं लेकिन हर कहानी अपनी जगह पर मुकम्मिल एक ‘क्लासिक’ बनती गयी। ये कहानियाँ आप केवल पढक़र पूरी नहीं करते, ये कहानियाँ कहीं बहुत गहरे पैठकर आपकी जीवन-दृष्टि को पूरी और गहरी बना जाती हैं. इनमें कुछ ऐसा है जो आप पढक़र ही जान पाएँगे। प्रस्तुत है इस कृति का नवीन संस्करण।
Add a Review
Your Rating