Mera Nirnay

view cart
Availability : Stock
  • 0 customer review

Mera Nirnay

Number of Pages : 204
Published In : 2010
Available In : Hardbound
ISBN : 978-81-263-2036-3
Author: Abhimanyu Anat

Overview

मॉरिशस में जनमे हिन्दी के प्रतिष्ठित कथाकार अभिमन्यु अनत ने भारत के हिन्दी पाठकों में भी एक खासी लोकप्रियता हासिल की है। उपन्यासों  की कड़ी में मेरा निर्णय उनकी बत्तीसवीं कृति है। इस उपन्यास में मॉरिशस के महत्त्वाकांक्षी जनसमुदाय के कुछ प्रतिनिधि चरित्रों की जीवनगाथा अंकित है। देश में बेकारी अपनी पराकाष्ठा पर है। इन परिस्थितियों में नौकरी पाने के लिए नवयुवकों को अपने प्रभुसत्तात्मक देश इंग्लैंड की ओर ताक लगाए रहना पड़ता है। उपन्यास की प्रमुख पात्र अमिता के सामने भी यही एक विकल्प है। शिक्षण एवं आजीविका के लिए देश से बाहर जाना जहाँ उसकी विवशता है वहीं अपने साथ हुए गाँव के एक हादसे की मानसिक पीड़ा से भी वह उबरना चाहती है। अमिता का जीवन आधुनिकता और परम्परा के द्वन्द्व से निॢमत रोचक आख्यान है।

Price     Rs 200

मॉरिशस में जनमे हिन्दी के प्रतिष्ठित कथाकार अभिमन्यु अनत ने भारत के हिन्दी पाठकों में भी एक खासी लोकप्रियता हासिल की है। उपन्यासों  की कड़ी में मेरा निर्णय उनकी बत्तीसवीं कृति है। इस उपन्यास में मॉरिशस के महत्त्वाकांक्षी जनसमुदाय के कुछ प्रतिनिधि चरित्रों की जीवनगाथा अंकित है। देश में बेकारी अपनी पराकाष्ठा पर है। इन परिस्थितियों में नौकरी पाने के लिए नवयुवकों को अपने प्रभुसत्तात्मक देश इंग्लैंड की ओर ताक लगाए रहना पड़ता है। उपन्यास की प्रमुख पात्र अमिता के सामने भी यही एक विकल्प है। शिक्षण एवं आजीविका के लिए देश से बाहर जाना जहाँ उसकी विवशता है वहीं अपने साथ हुए गाँव के एक हादसे की मानसिक पीड़ा से भी वह उबरना चाहती है। अमिता का जीवन आधुनिकता और परम्परा के द्वन्द्व से निॢमत रोचक आख्यान है।
Add a Review
Your Rating